Best Tourist Places in Ajmer | Places to visit in Ajmer

अरावली पर्वतमाला से घिरा हुआ राजस्थान के खूबसूरत पर्यटन स्थलों में से एक है। अजमेर एक तीर्थ स्थल है जो हिंदुओं और मुसलमानों दोनों के लिए एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी है। अजमेर शहर अपनी धार्मिक परंपराओं और सांस्कृतिक महत्व को मजबूती से निभाते हुए पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

किशनगढ़ किला 

किशनगढ़ जिले अजमेर का एक ऐतिहासिक और पौराणिक किला है। इस किले के अंदर कई स्मारक और महल देखे जा सकते हैं। यह किला एक सांस्कृतिक और ऐतिहासिक धरोहर के रूप में अजमेर में स्थित है। इस किले के पास आपको एक झील भी देखने को मिल जाएगी जिसे देखने के लिए पर्यटक बड़ी संख्या में यहां आते हैं। यह पर्यटन स्थल अजमेर में घूमने के लिए एक बेहतरीन जगह साबित होती है।

सोनी जी की नसिया अजमेर

सोनी जी की नसिया राजस्थान का एक प्रमुख जैन मंदिर है। यह मंदिर अजमेर में पृथ्वीराज मार्ग पर स्थित है, इसे लाल मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। गोल्डन सिटी के नाम से मशहूर इस मंदिर का मुख्य हॉल काफी आकर्षक है। यह मंदिर अजमेर के प्रसिद्ध और प्रमुख धार्मिक स्थल के रूप में जाना जाता है। इस मंदिर की संरचना इतने सुंदर और आकर्षक तरीके से की गई है कि पर्यटक भी इसे देखने आना चाहते हैं, वैसे आपको बता दें कि इस मंदिर में अक्सर भक्तों की भारी भीड़ देखी जाती है।

साईं बाबा मंदिर अजमेर 

साईं बाबा का यह मंदिर भी अजमेर के प्रमुख तीर्थ स्थलों की सूची में शामिल है। संगमरमर से बना यह मंदिर और इसकी स्थापत्य कला श्रद्धालुओं के साथ-साथ पर्यटकों को भी अपनी ओर आकर्षित करती है। साईं भक्तों के लिए अजमेर में यह मंदिर बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु अपनी मनोकामना लेकर साईं बाबा के दर्शन के लिए आते हैं।

तारागढ़

किले का निर्माण काल ​​1354 ईस्वी माना जाता है। तारागढ़ किले की वास्तुकला पौराणिक काल की कलाकृतियों का बेजोड़ उदाहरण प्रस्तुत करती है। यह किला आज के समय में पर्यटकों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण और आकर्षक जगह बन चुका है। इस किले की बेजोड़ कलाकृतियों और अद्भुत नजारों को देखने के लिए भारत के विभिन्न कोणों से पर्यटक भी आते हैं।

फॉय सागर झील अजमेर

फॉय सागर झील एक कृत्रिम झील है। इस झील का निर्माण मानव ने 1892 में किया था। इस कृत्रिम झील का निर्माण अजमेर में पानी की कमी को दूर करने के उद्देश्य से किया गया था। यह फोय झील पानी के स्रोत के साथ-साथ पर्यटकों के लिए पिकनिक स्थल के रूप में भी जानी जाती है। पर्यटक अक्सर यहां पिकनिक मनाने और यहां का लुत्फ उठाने आते हैं।

नरेली जैन मंदिर अजमेर

नरेली जैन मंदिर जो मार्बल पत्थर से बनी खूबसूरत वास्तुकला और कलाकारी का नमूना पेश करता है। यह मंदिर दिगंबर जैनियों के प्रमुख तीर्थ स्थल के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर प्रकृति की गोद में ऐसी जगह पर स्थित है, जहां से घिरा हुआ पहाड़ और हरे-भरे पेड़-पौधे बेहद खूबसूरत लगते हैं।

इस मंदिर में एक बड़ी मूर्ति भी है, जो देखने में बहुत आकर्षक लगती है। अजमेर में पर्यटन और धार्मिक स्थलों की सूची में यह मंदिर बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। जब भी आप अजमेर आएं तो इसे अपनी यात्रा में जरूर शामिल करें।

अजमेर शरीफ की मजार

अजमेर शरीफ इस्लामिक धर्म की दरगाह है, यहां लोग दूर-दूर से अपनी मन्नतें लेकर आते हैं। यहां सिर्फ इस्लामिक धर्म के लोग ही नहीं बल्कि सभी धर्मों के लोग आते हैं। अजमेर शरीफ मुगलों द्वारा निर्मित एक महान स्थापत्य और मूर्तिकला धार्मिक स्थल है। इस दरगाह में आपको मुख्य तीन दरवाजे देखने को मिलेंगे। यहां श्रद्धालुओं के साथ-साथ पर्यटक भी दर्शन करने आते हैं।

समय

अजमेर की यात्रा पर जाने से पहले आपको यह भी जान लेना चाहिए कि यहां घूमने का सबसे अच्छा समय कब है। आपको बता दें कि अजमेर की यात्रा आप साल के पूरे महीने में कभी भी कर सकते हैं, लेकिन अगर हम यहां घूमने के लिए सबसे अच्छे समय की बात करें तो अक्टूबर से मार्च के बीच का समय माना जाता है। क्योंकि मार्च के बाद जब गर्मी शुरू होती है तो यहां का तापमान 45 डिग्री से ऊपर चला जाता है इसलिए गर्मी के समय में यहां जाने से बचना चाहिए।

ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेर

की दरगाह ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह अजमेर ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह अजमेर शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। अजमेर में घूमने के लिए यह सबसे अच्छी जगह है। यह मुसलमानों के लिए एक धार्मिक स्थान है। यहां बहुत भीड़ होती है। पूरे भारत से लोग यहां घूमने आते हैं। यहां मुस्लिम लोगों के साथ-साथ हिंदू लोग भी दर्शन करने आते हैं। यह जगह बहुत खूबसूरत है और यहां संत मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह देखने को मिलती है। यह दरगाह प्राचीन है। मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह के बाहर एक बहुत बड़ा बाजार है। यहां बहुत भीड़ हो जाती है। दरगाह के बाहर फूल और चादर बेचने वाले मिल जाते हैं। अगर आप चादर चढ़ाना चाहते हैं तो यहां से ले सकते हैं। ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह अजमेर रेलवे स्टेशन से लगभग 2 से 2.5 किमी की दूरी पर स्थित है। आप यहां पैदल भी घूमने आ सकते हैं। ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती दरगाह में आपको बुलंद दरवाजा देखने को मिलता है, जिसे अकबर ने बनवाया था। यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है। 

ढाई दिन का झोपड़ा अजमेर

झोपड़ा अजमेर शहर का एक ऐतिहासिक स्थान है। यहां आपको प्रवेश द्वार की खूबसूरत संरचना देखने को मिलती है। यह स्थान अजमेर शरीफ दरगाह से लगभग 10 से 15 मिनट की दूरी पर स्थित है। यहां बहुत भीड़ होती है। इसलिए यहां पैदल घूमने के लिए आना पड़ता है। यह स्थान अजमेर शरीफ से करीब 1 किलोमीटर दूर होगा। इस जगह पर जाने के दौरान आपको बहुत सारी दुकानें देखने को मिलती हैं। यहां आपको एक बेहद खूबसूरत प्रवेश द्वार और पीछे की ओर पहाड़ियों का नजारा देखने को मिलता है। यहां आपको कई दीवारों पर कुरान की आयतें लिखी हुई देखने को मिल जाएंगी। यहां आकर अच्छा लगा। यहां आपको खंभे देखने को मिलते हैं, जिन पर खूबसूरत नक्काशी की गई है। छत में आपको खूबसूरत नक्काशी भी देखने को मिलेगी। यहाँ बाहर एक बड़ा प्रांगण है। यहां किसी भी तरह की कोई एंट्री फीस नहीं है। आप यहां घूमने आ सकते हैं। 

अजमेर का किला और संग्रहालय

अजमेर का किला या राज्य संग्रहालय अजमेर में स्थित एक प्रमुख स्थान है। यह एक किला है। इस किले को अब एक संग्रहालय में बदल दिया गया है। यह किला अजमेर के मुख्य शहर में स्थित है। इस संग्रहालय में आपको देखने के लिए बहुत कुछ मिल सकता है। संग्रहालय में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां भारतीय पर्यटक 20 रुपये चार्ज करते हैं। भारतीय छात्र 10 रुपये और विदेशी पर्यटकों से 100 रुपये और विदेशी छात्रों से 50 रुपये शुल्क लिया जाता है। संग्रहालय के खुलने का समय शाम को 9:45 से 5:15 तक है। संग्रहालय प्रत्येक सोमवार को बंद रहता है और संग्रहालय किसी भी सरकारी अवकाश के दिन बंद रहता है। इस संग्रहालय में बहुत सी गैलरी है जिसमें आपको मूर्ति मूर्तियों की गैलरी देखने को मिलती है। इस संग्रहालय में आपको बहुत ही खूबसूरत मूर्तियां देखने को मिलती है, जहां पर तरह-तरह की मूर्तियां रखी गई हैं। यहां आपको पेंटिंग्स और टेक्सटाइल्स की गैलरी भी देखने को मिलेगी। यहां आपको प्राचीन तोपों का संग्रह देखने को मिलेगा। यहां पर आपको कटार का कलेक्शन भी देखने को मिलता है। आप यहां कई प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देख सकते हैं। यहां आपको कई मूर्तियां भी देखने को मिलती हैं, जिनमें बादशाह अकबर, राजा मानसिंह और कई अन्य कवियों की मूर्तियां हैं। इसके अलावा आपको यहां अजमेर का किला देखने को मिलेगा। यह किला भी काफी प्राचीन है और किले में आपको बहुत कुछ देखने को मिलता है। यह किला खूबसूरत है और बाहर आपको खूबसूरत बगीचे देखने को मिलेंगे। आप इसे यहाँ पसंद करेंगे। 

आनासागर झील या अजमेर झील अजमेर

शहर का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है। अजमेर में घूमने के लिए यह सबसे अच्छी जगह है। यह झील मुख्य अजमेर शहर में स्थित है। यह झील काफी बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। यह झील देखने में बेहद खूबसूरत लगती है। झील के चारों ओर देखने के लिए कई रेस्तरां और पार्क हैं। आना सागर झील बेहद खूबसूरत है और इस झील के बीच में एक टापू भी बना हुआ है, जिसमें पार्क बना हुआ है। झील के किनारे सेल्फी प्वाइंट है, जहां आप सेल्फी ले सकते हैं। अजमेर शहर आनासागर झील के किनारे बसा है। आनासागर झील को अजमेर झील के नाम से भी जाना जाता है। सर्दियों के दौरान इस झील में कई विदेशी पक्षी आते हैं। तब इस झील का नजारा बेहद खूबसूरत रहता है। यहां आप इन पक्षियों को देख सकते हैं। झील में छोटे-छोटे द्वीप भी हैं, जिनमें ये पक्षी रहते हैं। यहां आप किसी भी रेस्टोरेंट में जाकर झील के खूबसूरत नजारे का लुत्फ उठा सकते हैं। 

तारागढ़ किला अजमेर

तारागढ़ किला अजमेर शहर का एक प्रमुख लैंडमार्क है। यह एक ऐतिहासिक स्थान है। यहां आपको एक प्राचीन किला देखने को मिलता है। इस किले के अंदर आपको घूमने के लिए बहुत सारी जगह मिल जाती है। इस किले में आपको पुरानी मस्जिद देखने को मिलती है। इस किले में एक प्राचीन बावड़ी भी मिलती है, जो बलुआ पत्थर से बनी है। यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है। इस किले से पूरे अजमेर शहर का नजारा देखा जा सकता है। इस किले तक पहुंचने के लिए आपको चढ़ाई करनी होगी। आप यहां आसानी से आकर घूम सकते हैं। अगर आप अजमेर शरीफ दरगाह जाते हैं तो बहुत सारे लोग तारागढ़ किले में जाने के लिए सवारी की तलाश में हैं तो आप उनके साथ इस किले की यात्रा करने के लिए आ सकते हैं। उनके शुल्क कम रहते हैं। यहां आकर आपको बहुत ही अच्छा नजारा देखने को मिलता है। 

महाराणा प्रताप मेमोरियल अजमेर

महाराणा प्रताप मेमोरियल अजमेर अजमेर शहर के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। यहां आपको महाराणा प्रताप की एक बहुत बड़ी प्रतिमा देखने को मिलेगी। यह मूर्ति घोड़े पर सवार है। यह मूर्ति देखने में अद्भुत है। यह मूर्ति अजमेर से पुष्कर जाने वाली सड़क पर स्थित है। यह मूर्ति एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। तो इस जगह से आप पूरे अजमेर शहर का नजारा देख सकते हैं। आप यहां घूमने आ सकते हैं। बारिश के मौसम में यह जगह बहुत खूबसूरत लगती है और यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां आपको एक कैफे भी देखने को मिल जाता है, जहां से आप अपने लिए चाय, नाश्ता, कॉफी ऑर्डर कर सकते हैं। यहां बैठने की व्यवस्था है, जहां से आप बैठकर नजारे का लुत्फ उठा सकते हैं। कई सेल्फी प्रेमी यहां आते हैं, जो इस घाटी के नजारे को अपने कैमरे में कैद करते हैं। यहां आकर आपको अच्छा लगेगा। 

डियर पार्क अजमेर

डियर पार्क अजमेर शहर की एक बहुत ही खूबसूरत जगह है। यहां आपको ढेर सारे डियर देखने को मिलते हैं। यहां हिरणों को पाला जाता है और आप उन्हें देख सकते हैं। डियर पार्क अजमेर से पुष्कर जाने वाली सड़क पर स्थित है। आप यहां बड़ी आसानी से आ सकते हैं और इस जगह पर घूम सकते हैं। 

आनासागर बारादरी अजमेर

बारादरी अजमेर शहर में स्थित एक प्राचीन स्थल है। आनासागर बारादरी अजमेर झील के किनारे स्थित है। बहुत सुन्दर रहता है। यह स्थल सफेद संगमरमर से बना है। यह एक मंडप है और बहुत सुंदर दिखता है। इस जगह से आप आना सागर झील के नज़ारे देख सकते हैं, जो बहुत ही प्यारी लगती है। यहां से आप डूबते सूरज का नजारा देख सकते हैं। आनासागर बारादरी में प्रवेश के लिए टिकट है। यहां आपको गार्डन भी देखने को मिलेगा, जिसमें तरह-तरह की गतिविधियां होती रहती हैं। यहां आप बोटिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं। यहां कई रेस्टोरेंट भी हैं, जिनमें आप खाने का लुत्फ उठा सकते हैं। 

सुभाष उद्यान अजमेर

सुभाष उद्यान अजमेर शहर का एक प्रमुख उद्यान है। यह बाग अजमेर शहर में आनासागर झील के किनारे बना हुआ है। यह पार्क आनासागर बारादरी के पास है। आप यहां घूमने आ सकते हैं। इस पार्क में प्रवेश करने के लिए एक शुल्क है। यह पार्क बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां आपको तरह-तरह की चीजें मिल सकती हैं। यहां पर आपको तरह-तरह की मूर्तियां भी देखने को मिलती हैं। यहां आपको सुभाष चंद्र जी की प्रतिमा भी देखने को मिलेगी। इसके अलावा आपको यहां भगवान शिव का विशाल शिवलिंग देखने को मिलेगा, जो बहुत ही सुंदर दिखाई देता है। यह पार्क बहुत ही खूबसूरत है और आपको इस पार्क में कई फव्वारे भी देखने को मिलते हैं। इस पार्क में बच्चों के लिए झूले और टॉय ट्रेन भी उपलब्ध हैं, जिसमें बच्चे खूब मस्ती कर सकते हैं। यह पार्क आनासागर झील के पास स्थित है। आप यहां घूमने आ सकते हैं। 

अजयपाल मंदिर अजमेर

अजयपाल मंदिर अजमेर शहर का एक खूबसूरत मंदिर है। यह मंदिर घने जंगलों के बीच बना हुआ है। यह मंदिर अजमेर से करीब 25 से 30 किलोमीटर दूर है। अगर आप बारिश के मौसम में इस मंदिर में आते हैं तो आपको हर जगह खूबसूरत झरने देखने को मिल जाएंगे। यहां जो मंदिर बना है। यह भगवान शिव को समर्पित है। यहां बहुत सारे बंदर हैं। आप यहां आकर यहां की खूबसूरती का लुत्फ उठा सकते हैं। यहां छोटे-छोटे पूल बने हुए हैं, जिनमें आप नहाने का भी मजा ले सकते हैं। यहां आकर आप ट्रेकिंग और साइक्लिंग का लुत्फ उठा सकते हैं। यह जगह बहुत खूबसूरत है। यहां आपको चारों ओर अरावली पर्वत श्रृंखलाएं देखने को मिलती हैं। यहां आपको सूर्यास्त का बेहद खूबसूरत नजारा भी देखने को मिलेगा। 

सम्राट पृथ्वीराज चौहान स्मारक

सम्राट पृथ्वीराज चौहान स्मारक अजमेर शहर में स्थित एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है। यहां आपको सम्राट पृथ्वीराज चौहान की मूर्ति देखने को मिलेगी। यह मूर्ति काले पत्थर से बनी है। इस मूर्ति में पृथ्वीराज चौहान को अपने घोड़े पर बैठे और हाथ में तीर लिए हुए दिखाया गया है। यहाँ पृथ्वीराज चौहान का साम्राज्य कहाँ फैला था? उसका नक्शा भी देखने को मिल जाएगा। यह स्थान तारागढ़ किले की ओर जाने वाली सड़क पर स्थित है। यह जगह बहुत खूबसूरत है। इस जगह से आप खूबसूरत घाटियों का नजारा देख सकते हैं। यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है। 

अजमेर कैसे पहुँचे?

अजमेर राजस्थान का एक बहुत अच्छा शहर है। यह भारत के अन्य भागों से सड़क, वायु और रेल मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप अपनी सुविधा के अनुसार कोई भी रास्ता चुनकर यहां आसानी से पहुंच सकते हैं।

अजमेर का निकटतम हवाई अड्डा जयपुर में स्थित है। अगर आप फ्लाइट से यहां पहुंचना चाहते हैं तो आपको जयपुर के लिए फ्लाइट लेनी होगी। अजमेर अगर आप ट्रेन के जरिए पहुंचना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि अजमेर का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन अजमेर में ही स्थित है।

अगर आप सड़क मार्ग से अजमेर जाने की योजना बना रहे हैं तो आप आसानी से पहुंच सकते हैं। क्योंकि अजमेर राजस्थान का एक आदर्श शहर है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग द्वारा भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

 

Leave a Comment